​​​​What is http in hindi?Http क्या है?

​​​​What is http in hindi?Http क्या है?
​​​​What is http in hindi

HTTP Definition In Hindi: HTTP (Hypertext Exchange Convention) 

WWW-Internet पर फ़ाइलों (टेक्‍स्‍ट, ग्राफिक, इमेज, साउंड, वीडियो और अन्य मल्टीमीडिया फ़ाइलों) को ट्रांसफर करने के लिए नियमों का एक सेट है। 

Http full form.http फुल फॉर्म

दोस्तों Http का फुल फॉर्म hyper text transfer protocol होता है और https का फुल फॉर्म hyper text transfer protocol security होता है।

What is HTTP in Hindi:

Hypertext Move Convention in Hindi: HTTP का अर्थ Hyper Content Exchange Convention है। यह वेब पर प्राइमरी टेक्‍नोलॉजी प्रोटोकॉल हैं, जो लिंकिंग और ब्राउज़िंग को अधिक सफल और संभव बनाता है। यह वेब सर्वर और वेब यूजर्स के बीच कम्यूनिकेट करने के लिए उपयोग की जाने वाली टेक्‍नोलॉजी है। यह प्रोटोकॉल बड़े, मल्‍टी-फंक्शनिंग, मल्‍टी-इनपुट सिस्टम का बेस है – जैसे वर्ल्ड वाइड वेब। वेब जैसा कि हम जानते हैं कि यह बिना कम्युनिकेशन प्रोसेस के फंक्‍शन नहीं करेगा, क्योंकि लिंक ठीक से काम करने के लिए HTTP पर निर्भर करते है। जब आप किसी वेब पेज को ओपन करते हैं, तो उसके URL Address के आगे http://एंटर करते हैं, जो ब्राउज़र को HTTP पर कम्यूनिकेट करने के लिए कहता है। उदाहरण के लिए, ।
​​​​What is http in hindi

Tech gadget का URL http://www.techgudget.ooo हैै।आज के ब्राउज़रों को अब URL के सामने HTTP की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि यह कम्युनिकेशन की डिफ़ॉल्ट मेथड है। चूंकि अधिकांश वेब ब्राउज़र डिफ़ॉल्ट HTTP लेते है, आपको केवल डोमेन नेम टाइप करना होता हैं और ब्राउज़र "http:/" पार्ट को आटो-फिल कर सकते हैं। हालांकि, इसे FTP जैसे प्रोटोकॉल अलग करने की आवश्यकता के कारण ब्राउज़र में रखा जाता है। यह प्रोटोकॉल FTP जैसे अन्य के समान है, जिसका उपयोग क्लाइंट प्रोग्राम द्वारा रिमोट सर्वर से फ़ाइलों कि रिक्‍वेस्‍ट करने के लिए किया जाता है। HTTP के मामले में, यह आमतौर पर एक वेब ब्राउज़र होता है जो वेब सर्वर से HTML फ़ाइलों को रिक्‍वेस्‍ट करता है, और तब ब्राउज़र में टेक्‍स्‍ट, इमेजेस, हाइपरलिंक्स आदि के साथ डिस्‍प्‍ले होता है। HTTP को "स्टेटलेस सिस्टम" कहा जाता है। इसका अर्थ यह है कि अन्य फाइल ट्रांसफर प्रोटोकॉल जैसे FTP के विपरीत, रिक्‍वेस्‍ट किए जाने के बाद, HTTP कनेक्शन ड्रॉप हो जाता है। इसलिए, एक बार आपका वेब ब्राउज़र रिक्‍वेस्‍ट भेजता है और सर्वर वेब पेज के साथ रिस्‍पॉंड करता है, तो उसका सम्पर्क समाप्त हो जाता है। वेब जैसा कि हम जानते हैं, यह कम्युनिकेशन प्रोसेस के बिना फंक्‍शन नहीं करेगा, क्योंकि लिंक ठीक से काम करने के लिए HTTP पर निर्भर करता है। जैसे ही एक वेब यूजर अपने वेब ब्राउज़र को ओपन करता है, यूजर अप्रत्यक्ष रूप से HTTP का उपयोग कर रहा है। HTTP एक ऐसा ऐप्‍लीकेशन प्रोटोकॉल है जो प्रोटोकॉल के TCP/IP सुट (इंटरनेट के लिए फाउंडेशन प्रोटोकॉल) के टॉप पर चलता है। वेब पेज के सामने http:/एंटर करने पर ब्राउज़र को HTTP पर कम्युनिकेशन करने के लिए कहता है। उदाहरण के लिए, Tech gadget खोज के लिए URL – https://www.techgudget.ooo है। आज के ब्राउज़रों को अब URL के सामने HTTP की आवश्यकता नहीं है क्योंकि यह कम्युनिकेशन की डिफ़ॉल्ट मेथड है। 

History of HTTP in Hindi:

HTTP का इतिहास: टिम बर्नर्स-ली ने मूल वर्ल्ड वाइड वेब को परिभाषित करने में अपने काम के भाग के रूप में 1990 के प्रारंभ में प्रारंभिक HTTP बनाया। 1990 के दशक के दौरान तीन प्राइमरी वर्जन को व्यापक रूप से प्रसारित किया गया था: HTTP 0.9 (बेसिक हाइपरटेक्स्ट डयॉक्‍युमेंटस् को सपोर्ट करने के लिए) HTTP 1.0 (रिच वेबसाइट्स और स्केलेबिलिटी को सपोर्ट करने के लिए एक्सटेंशन) HTTP 1.1 (HTTP 1.0 के परफॉर्मेस लिमिटेशन को संबोधित करने के लिए डेवलप किया गया, जो इंटरनेट RFC 2068 में स्‍पेसिफाइड है) लेटेस्‍ट वर्जन, HTTP 2.0, 2015 में एक एप्रूव्ड स्‍टैंडर्ड बन गया।
​​​​What is http in hindi

 यह HTTP 1.1 के साथ बैकवर्ड कम्पेटिबिलिटी को बनाए रखता है, लेकिन अतिरिक्त परफॉर्मेस ऑफर करता है। जबकि स्‍टैंडर्ड HTTP एक नेटवर्क पर ट्रैफ़िक को एन्क्रिप्ट नहीं करता है, तो HTTPS स्‍टैंडर्ड को (मूल) Secure Attachments Layer (SSL) या (बाद में) Transport Layer Security (TLS) के उपयोग के माध्यम से एन्क्रिप्शन एड करने के लिए डेवलप किया गया था। 

 How HTTP Functions in Hindi:

HTTP एक क्लाइंट-सर्वर कम्युनिकेशन मॉडल का उपयोग करता है जो TCP के टॉप पर बनाया गया एक ऐप्‍लीकेशन लेयर प्रोटोकॉल है। HTTP क्लाइंट और सर्वर, HTTP रिक्‍वेस्‍ट और रिस्‍पॉन्‍स मैसेज के माध्यम से कम्युनिकेशन करते हैं। तीन मुख्य HTTP मैसेज टाइप GET, POST, और HEAD हैं। किसी सर्वर पर भेजे जाने वाले HTTP GET मैसेज में केवल एक URL होता है। जिरो या अधिक ऑप्‍शनल डेटा पैरामीटर URL के अंत में जोड़े जा सकते है। सर्वर URL के ऑप्‍शनल डेटा पोर्शन को प्रोसेस करता है, यदि मौजूद है, और ब्राउज़र को रिजल्‍ट (वेब पेज या वेब पेज के एलिमेंट) देता है। HTTP POST मैसेज को URL के अंत में एड करने के बजाय रिक्‍वेस्‍ट मैसेज के बॉडी में कोई ऑप्‍शनल डेटा पैरामीटर रखता है।

दोस्तों आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी हमे कॉमेंट बॉक्स में जरूर बताये।अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और बेल आइकन को सब्सक्राइब करना ना भूलें।धन्यवाद दोस्तों।



Previous
Next Post »

लोकप्रिय पोस्ट